Who Says Delta Is Globally Dominant Variant Of Coronavirus Changing Different Variants Of Concern – कोरोना वायरस: दुनियाभर में सबसे ज्यादा फैल रहा डेल्टा वैरिएंट, पहले से अधिक संक्रामक हुआ

[ad_1]

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Revealed by: गौरव पाण्डेय
Up to date Thu, 23 Sep 2021 03:47 PM IST

सार

डेल्टा वैरिएंट सबसे पहले साल 2020 के अंत में भारत में पाया गया था, जो देश में इस महामारी की भीषण दूसरी लहर का कारण बना था। यह वैरिएंट अभी तक लगभग 185 देशों में सामने आ चुका है। इसे बी.1.617.2 नाम से भी जाना जाता है। 

कोरोना से बचने के लिए मास्क लगाए लोग
– फोटो : पीटीआई (फाइल)

ख़बर सुनें

कोरोना वायरस का डेल्टा वैरिएंट दुनियाभर में सबसे ज्यादा प्रसारित होने वाला इस वायरस का प्रमुख वैरिएंट है। यह प्रसार व संक्रमण के मामले में अल्फा, बीटा और गामा वैरिएंट्स को पीछे छोड़ रहा है। यह बात विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की टेक्निकल लीड मारिया वैन कर्खोव ने बुधवार को एक कार्यक्रम में कही।

उन्होंने कहा कि डेल्टा वैरिएंट में समय के साथ बदलाव आया है और यह अधिक संक्रामक हुआ है। इस समय प्रसार के मामले में यह कोरोना वायरस के सभी वैरिएंट को सक्रिय रूप से पीछे छोड़ रहा है। कर्खोव ने एक सोशल मीडिया वार्ता में कहा, वर्तमान में अल्फा, बीटा और गामा वैरिएंट के एक फीसदी से भी कम का प्रसार हो रहा है।असल में दुनियाभर में डेल्टा वैरिएंट प्रमुख रूप से प्रसारित हो रहा है।

उन्होंने कहा कि यह और ताकतवर हुआ है, यह अधिक संक्रामक है और यह बाकी वैरिएंट का स्थान ले रहा है।’ उल्लेखनीय है कि डब्ल्यूएचओ ने अल्फा, बीटा, गामा के साथ ईटा, आयोटा और कप्पा वैरिएंट को निचले स्तर में कर दिया है। इसका मतलब है कि अब ये वैरिएंट वैश्विक जन स्वास्थ्य के लिए गंभीर खतरा नहीं हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से गुरुवार सुबह आठ बजे जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार देश में कोरोना के कुल मामलों की संख्या तीन करोड़ 35 लाख 63 हजार 421 है। इनमें सक्रिय मरीजों की संख्या तीन लाख एक हजार 640 रह गई है। यह संख्या पिछले 187 दिनों में सबसे कम है। पिछले 24 घंटों में केवल 31923 नए मामले सामने आए।

विस्तार

कोरोना वायरस का डेल्टा वैरिएंट दुनियाभर में सबसे ज्यादा प्रसारित होने वाला इस वायरस का प्रमुख वैरिएंट है। यह प्रसार व संक्रमण के मामले में अल्फा, बीटा और गामा वैरिएंट्स को पीछे छोड़ रहा है। यह बात विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की टेक्निकल लीड मारिया वैन कर्खोव ने बुधवार को एक कार्यक्रम में कही।

उन्होंने कहा कि डेल्टा वैरिएंट में समय के साथ बदलाव आया है और यह अधिक संक्रामक हुआ है। इस समय प्रसार के मामले में यह कोरोना वायरस के सभी वैरिएंट को सक्रिय रूप से पीछे छोड़ रहा है। कर्खोव ने एक सोशल मीडिया वार्ता में कहा, वर्तमान में अल्फा, बीटा और गामा वैरिएंट के एक फीसदी से भी कम का प्रसार हो रहा है।असल में दुनियाभर में डेल्टा वैरिएंट प्रमुख रूप से प्रसारित हो रहा है।

उन्होंने कहा कि यह और ताकतवर हुआ है, यह अधिक संक्रामक है और यह बाकी वैरिएंट का स्थान ले रहा है।’ उल्लेखनीय है कि डब्ल्यूएचओ ने अल्फा, बीटा, गामा के साथ ईटा, आयोटा और कप्पा वैरिएंट को निचले स्तर में कर दिया है। इसका मतलब है कि अब ये वैरिएंट वैश्विक जन स्वास्थ्य के लिए गंभीर खतरा नहीं हैं।


आगे पढ़ें

भारत में कोरोना महामारी के कुछ ऐसे हैं हालात

[ad_2]

Supply hyperlink

Share on:

नमस्कार दोस्तों, मैं Pinku, HindiMeJabab(हिन्दी में जवाब) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं 10th Pass हूँ. मुझे नयी नयी चीजों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे.

Leave a Comment