Uae Introduced To Ship Spacecraft To Asteroid Between Mars-jupiter – एलान: मंगल-बृहस्पति के बीच क्षुद्रग्रह पर अंतरिक्ष यान भेजेगा यूएई, जुटाएगा ब्रह्मांड की उत्पत्ति के आंकड़े

[ad_1]

सार

यह तेल के मामले में समृद्ध देश के महत्वाकांक्षी अंतरिक्ष कार्यक्रम की नवीनतम परियोजना है। इस परियोजना के तहत 2028 में प्रक्षेपण और 2033 में लैंडिंग का लक्ष्य है। पांच साल की यात्रा में अंतरिक्ष यान करीब 3.6 अरब किलोमीटर की दूरी तय करेगा।

ख़बर सुनें

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने ब्रह्मांड की उत्पत्ति के संबंध में आंकड़े एकत्र करने के मकसद से मंगल और बृहस्पति के बीच एक क्षुद्रग्रह पर अंतरिक्ष यान भेजने की योजना की मंगलवार को घोषणा की। यह तेल के मामले में समृद्ध देश के महत्वाकांक्षी अंतरिक्ष कार्यक्रम की नवीनतम परियोजना है। 

परियोजना के तहत 2028 में प्रक्षेपण और 2033 में लैंडिंग का लक्ष्य
इस परियोजना के तहत 2028 में प्रक्षेपण और 2033 में लैंडिंग का लक्ष्य है। पांच साल की यात्रा में अंतरिक्ष यान करीब 3.6 अरब किलोमीटर की दूरी तय करेगा। यूएई की अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि वह इस परियोजना के लिए कोलोराडो विश्वविद्यालय में वायुमंडलीय विज्ञान और भौतिकी प्रयोगशाला के साथ साझेदारी करेगी।

एजेंसी ने इस पर आने वाली लागत के बारे में बताने से इनकार किया। इस परियोजना से पहले यूएई ने फरवरी में अपने एक अंतरिक्ष यान को मंगल की कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित किया था। वह यान एक कार के आकार का था और उसे तैयार करने और प्रक्षेपण पर करीब 20 करोड़ डॉलर का खर्च आया। अमीरात की योजना 2024 में चंद्रमा पर एक मानव रहित अंतरिक्ष यान भेजने की भी है। उसने 2117 तक मंगल ग्रह पर एक मानव कॉलोनी बनाने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य भी निर्धारित किया है।

विस्तार

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने ब्रह्मांड की उत्पत्ति के संबंध में आंकड़े एकत्र करने के मकसद से मंगल और बृहस्पति के बीच एक क्षुद्रग्रह पर अंतरिक्ष यान भेजने की योजना की मंगलवार को घोषणा की। यह तेल के मामले में समृद्ध देश के महत्वाकांक्षी अंतरिक्ष कार्यक्रम की नवीनतम परियोजना है। 

परियोजना के तहत 2028 में प्रक्षेपण और 2033 में लैंडिंग का लक्ष्य

इस परियोजना के तहत 2028 में प्रक्षेपण और 2033 में लैंडिंग का लक्ष्य है। पांच साल की यात्रा में अंतरिक्ष यान करीब 3.6 अरब किलोमीटर की दूरी तय करेगा। यूएई की अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि वह इस परियोजना के लिए कोलोराडो विश्वविद्यालय में वायुमंडलीय विज्ञान और भौतिकी प्रयोगशाला के साथ साझेदारी करेगी।

एजेंसी ने इस पर आने वाली लागत के बारे में बताने से इनकार किया। इस परियोजना से पहले यूएई ने फरवरी में अपने एक अंतरिक्ष यान को मंगल की कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित किया था। वह यान एक कार के आकार का था और उसे तैयार करने और प्रक्षेपण पर करीब 20 करोड़ डॉलर का खर्च आया। अमीरात की योजना 2024 में चंद्रमा पर एक मानव रहित अंतरिक्ष यान भेजने की भी है। उसने 2117 तक मंगल ग्रह पर एक मानव कॉलोनी बनाने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य भी निर्धारित किया है।

[ad_2]

Supply hyperlink

Share on:

नमस्कार दोस्तों, मैं Pinku, HindiMeJabab(हिन्दी में जवाब) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं 10th Pass हूँ. मुझे नयी नयी चीजों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे.

Leave a Comment