Supreme Court docket Dismissed Azam Khan Son Abdullah Petition Difficult The Excessive Court docket Choice – सुप्रीम कोर्ट: आजम के बेटे अब्दुल्ला को झटका, विधानसभा सदस्यता समाप्त करने के हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती वाली याचिका खारिज

[ad_1]

अमर उजाला ब्यूरो, नई दिल्ली।
Revealed by: देव कश्यप
Up to date Fri, 24 Sep 2021 03:36 AM IST

सार

2017 में यूपी विधानसभा चुनाव के समय अब्दुल्ला की उम्र 25 वर्ष से कम होने के कारण हाईकोर्ट ने उसे अयोग्य करार दिया था। अब्दुल्ला ने स्वार निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ा था और जीत हासिल की थी।

ख़बर सुनें

सपा सांसद आजम खां के बेटे अब्दुल्ला आजम खां को सुप्रीम कोर्ट से करारा झटका लगा है। जस्टिस एएम खानविलकर, जस्टिस दिनेश माहेश्वरी और जस्टिस सीटी रवि कुमार की पीठ ने सुनवाई के दौरान अब्दुल्ला के वकील के नहीं पहुंचने पर इलाहाबाद हाईकोर्ट द्वारा विधानसभा सदस्यता समाप्त करने के आदेश को चुनौती वाली याचिका को खारिज कर दिया।

सुप्रीम कोर्ट ने 16 सितंबर के अपने इस आदेश में कहा है कि मामले की अंतिम सुनवाई होने के बावजूद अब्दुल्ला का कोई वकील नहीं पहुंचा। लिहाजा सुप्रीम कोर्ट ने अब्दुल्ला की याचिका को खारिज कर दिया। दरअसल हाईकोर्ट ने 2017 में यूपी विधानसभा चुनाव के समय अब्दुल्ला की उम्र 25 वर्ष से कम होने के कारण हाईकोर्ट ने उसे अयोग्य करार दिया था। अब्दुल्ला ने स्वार निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ा था और जीत हासिल की थी।

उम्र संबंधी दस्तावेज में गड़बड़ी पर चुनाव अमान्य
हाईकोर्ट ने 2019 में अपने आदेश में अब्दुल्ला आजम की उम्र को लेकर दस्तावेजों में अनियमितता के कारण उनके चुनाव को अमान्य करार दिया था। हाईकोर्ट के फैसले को अब्दुल्ला ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी।

विस्तार

सपा सांसद आजम खां के बेटे अब्दुल्ला आजम खां को सुप्रीम कोर्ट से करारा झटका लगा है। जस्टिस एएम खानविलकर, जस्टिस दिनेश माहेश्वरी और जस्टिस सीटी रवि कुमार की पीठ ने सुनवाई के दौरान अब्दुल्ला के वकील के नहीं पहुंचने पर इलाहाबाद हाईकोर्ट द्वारा विधानसभा सदस्यता समाप्त करने के आदेश को चुनौती वाली याचिका को खारिज कर दिया।

सुप्रीम कोर्ट ने 16 सितंबर के अपने इस आदेश में कहा है कि मामले की अंतिम सुनवाई होने के बावजूद अब्दुल्ला का कोई वकील नहीं पहुंचा। लिहाजा सुप्रीम कोर्ट ने अब्दुल्ला की याचिका को खारिज कर दिया। दरअसल हाईकोर्ट ने 2017 में यूपी विधानसभा चुनाव के समय अब्दुल्ला की उम्र 25 वर्ष से कम होने के कारण हाईकोर्ट ने उसे अयोग्य करार दिया था। अब्दुल्ला ने स्वार निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ा था और जीत हासिल की थी।

उम्र संबंधी दस्तावेज में गड़बड़ी पर चुनाव अमान्य

हाईकोर्ट ने 2019 में अपने आदेश में अब्दुल्ला आजम की उम्र को लेकर दस्तावेजों में अनियमितता के कारण उनके चुनाव को अमान्य करार दिया था। हाईकोर्ट के फैसले को अब्दुल्ला ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी।

[ad_2]

Supply hyperlink

Share on:

नमस्कार दोस्तों, मैं Pinku, HindiMeJabab(हिन्दी में जवाब) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं 10th Pass हूँ. मुझे नयी नयी चीजों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे.

Leave a Comment