Rahul Gandhi And Priyanka Gandhi Meet Households Of Farmers Killed In Lakhimpur Kheri – लखीमपुर खीरी: मृतक लवप्रीत और पत्रकार के परिजनों से मिले राहुल-प्रियंका, बोले- मंत्री की बर्खास्तगी के बिना नहीं मिलेगा न्याय

[ad_1]

सार

राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने लवप्रीत के परिवार वालों के साथ करीब आधा घंटा का समय बिताया। लवप्रीत के माता-पिता को उन्होंने गले से लगाया। दोनों ही लोग परिजन के साथ बैठे और पूरे घटनाक्रम की विस्तार से जानकारी ली। 

लवप्रीत के परिजनों से राहुल-प्रियंका ने की मुलाकात
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

दो दिन से सीतापुर में नजरबंद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी बुधवार को राहुल गांधी के साथ तिकुनिया बवाल में मारे गए लवप्रीत के घर चौखड़ा फार्म पहुंचे। उन्होंने लवप्रीत के परिजन से मुलाकात की और न्याय का भरोसा दिलाया। इसके बाद वे लोग निघासन में मृतक पत्रकार रमन कश्यप के यहां भी पहुंचे। इस दौरान उन्होंने केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी की बर्खास्तगी और उनके बेटे आशीष मिश्र की गिरफ्तारी की मांग की।

प्रियंका गांधी और राहुल गांधी बुधवार रात करीब साढ़े नौ बजे कड़ी सुरक्षा के बीच लवप्रीत के घर पहुंचे। बाहर मीडिया वालों का हुजूम लगा था लेकिन उन्होंने किसी से बात नहीं की और सीधे उनके घर चली गईं। दोनों ने लवप्रीत के परिवार वालों से बातचीत कर घटना के बारे में पूरी जानकारी ली और न्याय का भरोसा दिलाया। उनके घर से निकलने के बाद मीडिया ने प्रियंका और राहुल गांधी ने दोबारा बातचीत का प्रयास किया लेकिन उन्होंने किसी सवाल का जवाब नहीं दिया और वहां से चले गए। चौखड़ा फार्म के बाद वे मृतक पत्रकार रमन कश्यप के घर निघासन पहुंचे और उनके परिवार वालों से बातचीत कर घटना की जानकारी ली। 

बता दें कि रविवार को तिकुनिया में हुए बवाल के दौरान चार किसान पर कार चढ़ाकर उनकी हत्या कर दी गई थी। बवाल के दौरान एक पत्रकार और तीन भाजपा कार्यकर्ताओं की भी मौत हुई थी। घटना वाले दिन से ही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वहां आने की कोशिश कर रही थीं। मगर सीतापुर में ही पहले उन्हें नजरबंद और फिर गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं, राहुल गांधी की ओर से प्रदेश सरकार से वहां जाने की अनुमति मांगी गई थी। तीन दिन तक चले टकराव के बाद बुधवार रात प्रियंका गांधी और राहुल गांधी को वहां जाने की अनुमति दे दी गई।
 

राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने लवप्रीत के परिवार वालों के साथ करीब आधा घंटा का समय बिताया। लवप्रीत के माता-पिता को उन्होंने गले से लगाया। दोनों ही लोग परिजन के साथ बैठे और पूरे घटनाक्रम की विस्तार से जानकारी ली। इस दौरान उनके परिवार के अन्य सदस्य भी वहां मौजूद रहे।

मंत्री को होना चाहिए बर्खास्त : प्रियंका गांधी
रमन कश्यप के परिवार वालों से मुलाकात के बाद राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने मीडिया से बातचीत की। इस दौरान प्रियंका गांधी ने कहा कि लवप्रीत को कुचला गया है और जिस मंत्री के बेटे ने कुचला, वह अभी भी मंत्री है। जब तक वह मंत्री रहेंगे, निष्पक्ष जांच कैसे हो सकती है। उनका बेटा इस मामले में आरोपी इसलिए मंत्री को बर्खास्त करके उनके बेटे को गिरफ्तार करना चाहिए।

राहुल गांधी ने कहा कि देश के किसानों के साथ जो हो रहा है हम उसके खिलाफ लड़ रहे हैं। दोनों परिवारों ने कहा है कि वे न्याय चाहते हैं। हम यहां न्याय दिलवाने आए हैं और यह लड़ाई चलती रहेगी। यहां आने से मुझे रोका गया, यह बड़ा सवाल नहीं है। बड़ा सवाल यह है कि यहां किसानों को कुचला गया है। किसानों की हत्या बड़ी बात है।

परिजन बोले- प्रियंका-राहुल ने बढ़ाई हिम्मत
लवप्रीत के परिजन ने कहा कि प्रियंका और राहुल गांधी ने हमारी हिम्मत बढ़ाई है। मुआवजा सब कुछ नहीं है, हमें न्याय चाहिए। उन्होंने हमारी बात पूरे ध्यान से सुनकर मदद का आश्वासन दिया है। वहीं, रमन कश्यप के परिजन ने बताया कि उन्होंने राहुल गांधी को पोस्टमार्टम रिपोर्ट सौंपी है। राहुल गांधी ने उन्हें न्याय दिलाने का आश्वासन दिया है।

विस्तार

दो दिन से सीतापुर में नजरबंद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी बुधवार को राहुल गांधी के साथ तिकुनिया बवाल में मारे गए लवप्रीत के घर चौखड़ा फार्म पहुंचे। उन्होंने लवप्रीत के परिजन से मुलाकात की और न्याय का भरोसा दिलाया। इसके बाद वे लोग निघासन में मृतक पत्रकार रमन कश्यप के यहां भी पहुंचे। इस दौरान उन्होंने केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी की बर्खास्तगी और उनके बेटे आशीष मिश्र की गिरफ्तारी की मांग की।

प्रियंका गांधी और राहुल गांधी बुधवार रात करीब साढ़े नौ बजे कड़ी सुरक्षा के बीच लवप्रीत के घर पहुंचे। बाहर मीडिया वालों का हुजूम लगा था लेकिन उन्होंने किसी से बात नहीं की और सीधे उनके घर चली गईं। दोनों ने लवप्रीत के परिवार वालों से बातचीत कर घटना के बारे में पूरी जानकारी ली और न्याय का भरोसा दिलाया। उनके घर से निकलने के बाद मीडिया ने प्रियंका और राहुल गांधी ने दोबारा बातचीत का प्रयास किया लेकिन उन्होंने किसी सवाल का जवाब नहीं दिया और वहां से चले गए। चौखड़ा फार्म के बाद वे मृतक पत्रकार रमन कश्यप के घर निघासन पहुंचे और उनके परिवार वालों से बातचीत कर घटना की जानकारी ली। 

बता दें कि रविवार को तिकुनिया में हुए बवाल के दौरान चार किसान पर कार चढ़ाकर उनकी हत्या कर दी गई थी। बवाल के दौरान एक पत्रकार और तीन भाजपा कार्यकर्ताओं की भी मौत हुई थी। घटना वाले दिन से ही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वहां आने की कोशिश कर रही थीं। मगर सीतापुर में ही पहले उन्हें नजरबंद और फिर गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं, राहुल गांधी की ओर से प्रदेश सरकार से वहां जाने की अनुमति मांगी गई थी। तीन दिन तक चले टकराव के बाद बुधवार रात प्रियंका गांधी और राहुल गांधी को वहां जाने की अनुमति दे दी गई।

 


आगे पढ़ें

माता-पिता को गले लगाया

[ad_2]

Supply hyperlink

Share on:

नमस्कार दोस्तों, मैं Pinku, HindiMeJabab(हिन्दी में जवाब) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं 10th Pass हूँ. मुझे नयी नयी चीजों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे.

Leave a Comment