Punjab Congress Mla Assembly New Chief Minister In Punjab Dwell Replace Captain Amarinder Singh Resigns Hindi Information – पंजाब Dwell: सीएम बनने से इनकार के बाद राहुल गांधी से मिलने पहुंचीं अंबिका सोनी, रंधावा बोले- तीन घंटे में हो जाएगा फैसला

[ad_1]

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़
Printed by: निवेदिता वर्मा
Up to date Solar, 19 Sep 2021 09:52 AM IST

सार

मुख्यमंत्री पद के लिए सुनील जाखड़ के नाम को लेकर अधिक संभावनाएं बनी हुई हैं। इस कारण से उनके घर कई कांग्रेसी विधायक बधाई देने के लिए पहुंच रहे हैं। दूसरी तरफ नवजोत सिंह सिद्धू खेमे के विधायक भी लामबंद हो रहे हैं।

पंजाब कांग्रेस के संकट के बीच राहुल गांधी से मिलने पहुंचीं अंबिका सोनी
– फोटो : ANI

ख़बर सुनें

कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के बाद रविवार को चंडीगढ़ में होने वाली कांग्रेस विधायक दल की बैठक स्थगित कर दी गई है। अब पंजाब के मुख्यमंत्री पद की घोषणा दिल्ली से की जाएगी। विधायक सुखजिंदर रंधावा ने बताया कि अगले 2-3 घंटे में पंजाब के नए सीएम के नाम पर फैसला ले लिया जाएगा।

कई दिग्गज कांग्रेसी नेताओं के नामों पर मंथन किया जा रहा है। इसमें अंबिका सोनी से भी सोनिया गांधी ने राय ली थी। हालांकि सोनी ने मुख्यमंत्री पद की पेशकश को ठुकरा दिया है। राहुल गांधी से मिलने पहुंचीं सोनी ने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री का चेहरा सिख होना चाहिए। पंजाब से पहले नंबर पर सुनील जाखड़ और दूसरे पर नवजोत सिंह सिद्धू के नाम की चर्चा चल रही है। मुख्यमंत्री पद के लिए सुनील जाखड़ के नाम को लेकर अधिक संभावनाएं बनी हुई हैं। इस कारण से उनके घर कई कांग्रेसी विधायक बधाई देने के लिए पहुंच रहे हैं। दूसरी तरफ नवजोत सिंह सिद्धू खेमे के विधायक भी लामबंद हो रहे हैं। हालांकि 11 बजे आज होने वाली विधायक दल की बैठक स्थगित होने के कारण अब जो भी मुख्यमंत्री के लिए चेहरा फाइनल होगा उसके नाम की घोषणा दिल्ली से ही की जाएगी।

यह भी पढ़ें- पंजाब: अमरिंदर सिंह के इस्तीफे का जलियांवाला बाग कनेक्शन, केंद्र सरकार का बचाव करना कहीं भारी तो नहीं पड़ा 

इससे पहले शनिवार शाम चंडीगढ़ स्थित कांग्रेस भवन में पंजाब कांग्रेस विधायक दल की बैठक में नेता के चयन की जिम्मेदारी पार्टी हाईकमान को सौंप दी गई थी। कैप्टन के इस्तीफे के बाद, कांग्रेस की एक महत्वपूर्ण बैठक शनिवार को नई दिल्ली में राहुल गांधी के आवास पर संपन्न हुई थी। कांग्रेस महासचिव (संगठन) केसी वेणुगोपाल और अंबिका सोनी ने बैठक में भाग लिया था।

विधायकों की अलग-अलग राय
शनिवार की बैठक में शामिल परगट सिंह ने कहा कि सीएलपी की एक और बैठक की जरूरत नहीं है। कल की बैठक में एक प्रस्ताव दिया गया था हालांकि यह आलाकमान का विशेषाधिकार है। वहीं विधायक कुलदीप वैद ने सुनील जाखड़ से मुलाकात के बाद कहा कि हम सोनिया गांधी के आदेश का इंतजार कर रहे हैं। इसके तुरंत बाद सीएलपी की बैठक में फैसला लिया जाएगा। कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के पीछे एक पृष्ठभूमि और मुद्दे हैं।

गांधी परिवार की करीबी हैं सोनी
पूर्व सूचना एवं प्रसारण मंत्री और राज्यसभा में पंजाब का प्रतिनिधित्व कर रहीं अंबिका सोनी अविभाजित पंजाब के लाहौर (अब पाकिस्तान में) में पैदा हुई थीं। उनके पिता नकुल सोनी अमृतसर में डीसी रह चुके थे। सिर्फ 21 साल की उम्र में सोनी कांग्रेस से जुड़ीं और 1975 में यूथ कांग्रेस की पहली महिला अध्यक्ष बनीं। वे गांधी परिवार की काफी करीबी मानी जाती हैं। 

सुनील जाखड़ के नाम से रंधावा को दिक्कत
सूत्रों के अनुसार बैठक में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ के नाम पर सहमति बन गई थी लेकिन यह भी पता चला है कि सुखजिंदर सिंह रंधावा ने किसी हिंदू को विधायक दल का नेता बनाए जाने पर आपत्ति दर्ज कराते हुए जाट-सिख को नेता बनाने की मांग रख दी है। रंधावा अपनी इस मांग पर अड़े थे, जिसे ध्यान में रखते हुए हाईकमान ने रविवार को विधायक दल की फिर से बैठक बुलाकर नेता चुनने का फैसला किया है।  

बैठक से पहले कैप्टन ने दे दिया था इस्तीफा
चंडीगढ़ में शनिवार शाम बुलाई गई पंजाब कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले ही कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। राज्यपाल को इस्तीफा सौंपने के बाद कैप्टन विधायक दल की बैठक में नहीं पहुंचे थे, हालांकि उनके समर्थक सभी विधायकों ने इसमें शिरकत की थी। विधायक दल की बैठक में 79 विधायक और पार्टी हाईकमान द्वारा नियुक्त किए गए तीन आब्जर्वर भी उपस्थित रहे। वहीं, आम आदमी पार्टी से कांग्रेस में शामिल हुए विधायक सुखपाल सिंह खैरा, जगदेव सिंह कमालू, निर्मल सिंह खालसा और निर्मल सिंह मनशिआ भी कांग्रेस भवन में मौजूद थे लेकिन उन्हें विधायक दल की बैठक में प्रवेश नहीं दिया गया।  

विस्तार

कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के बाद रविवार को चंडीगढ़ में होने वाली कांग्रेस विधायक दल की बैठक स्थगित कर दी गई है। अब पंजाब के मुख्यमंत्री पद की घोषणा दिल्ली से की जाएगी। विधायक सुखजिंदर रंधावा ने बताया कि अगले 2-3 घंटे में पंजाब के नए सीएम के नाम पर फैसला ले लिया जाएगा।

कई दिग्गज कांग्रेसी नेताओं के नामों पर मंथन किया जा रहा है। इसमें अंबिका सोनी से भी सोनिया गांधी ने राय ली थी। हालांकि सोनी ने मुख्यमंत्री पद की पेशकश को ठुकरा दिया है। राहुल गांधी से मिलने पहुंचीं सोनी ने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री का चेहरा सिख होना चाहिए। पंजाब से पहले नंबर पर सुनील जाखड़ और दूसरे पर नवजोत सिंह सिद्धू के नाम की चर्चा चल रही है। मुख्यमंत्री पद के लिए सुनील जाखड़ के नाम को लेकर अधिक संभावनाएं बनी हुई हैं। इस कारण से उनके घर कई कांग्रेसी विधायक बधाई देने के लिए पहुंच रहे हैं। दूसरी तरफ नवजोत सिंह सिद्धू खेमे के विधायक भी लामबंद हो रहे हैं। हालांकि 11 बजे आज होने वाली विधायक दल की बैठक स्थगित होने के कारण अब जो भी मुख्यमंत्री के लिए चेहरा फाइनल होगा उसके नाम की घोषणा दिल्ली से ही की जाएगी।

यह भी पढ़ें- पंजाब: अमरिंदर सिंह के इस्तीफे का जलियांवाला बाग कनेक्शन, केंद्र सरकार का बचाव करना कहीं भारी तो नहीं पड़ा 

इससे पहले शनिवार शाम चंडीगढ़ स्थित कांग्रेस भवन में पंजाब कांग्रेस विधायक दल की बैठक में नेता के चयन की जिम्मेदारी पार्टी हाईकमान को सौंप दी गई थी। कैप्टन के इस्तीफे के बाद, कांग्रेस की एक महत्वपूर्ण बैठक शनिवार को नई दिल्ली में राहुल गांधी के आवास पर संपन्न हुई थी। कांग्रेस महासचिव (संगठन) केसी वेणुगोपाल और अंबिका सोनी ने बैठक में भाग लिया था।

विधायकों की अलग-अलग राय

शनिवार की बैठक में शामिल परगट सिंह ने कहा कि सीएलपी की एक और बैठक की जरूरत नहीं है। कल की बैठक में एक प्रस्ताव दिया गया था हालांकि यह आलाकमान का विशेषाधिकार है। वहीं विधायक कुलदीप वैद ने सुनील जाखड़ से मुलाकात के बाद कहा कि हम सोनिया गांधी के आदेश का इंतजार कर रहे हैं। इसके तुरंत बाद सीएलपी की बैठक में फैसला लिया जाएगा। कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के पीछे एक पृष्ठभूमि और मुद्दे हैं।

गांधी परिवार की करीबी हैं सोनी

पूर्व सूचना एवं प्रसारण मंत्री और राज्यसभा में पंजाब का प्रतिनिधित्व कर रहीं अंबिका सोनी अविभाजित पंजाब के लाहौर (अब पाकिस्तान में) में पैदा हुई थीं। उनके पिता नकुल सोनी अमृतसर में डीसी रह चुके थे। सिर्फ 21 साल की उम्र में सोनी कांग्रेस से जुड़ीं और 1975 में यूथ कांग्रेस की पहली महिला अध्यक्ष बनीं। वे गांधी परिवार की काफी करीबी मानी जाती हैं। 

सुनील जाखड़ के नाम से रंधावा को दिक्कत

सूत्रों के अनुसार बैठक में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ के नाम पर सहमति बन गई थी लेकिन यह भी पता चला है कि सुखजिंदर सिंह रंधावा ने किसी हिंदू को विधायक दल का नेता बनाए जाने पर आपत्ति दर्ज कराते हुए जाट-सिख को नेता बनाने की मांग रख दी है। रंधावा अपनी इस मांग पर अड़े थे, जिसे ध्यान में रखते हुए हाईकमान ने रविवार को विधायक दल की फिर से बैठक बुलाकर नेता चुनने का फैसला किया है।  

बैठक से पहले कैप्टन ने दे दिया था इस्तीफा

चंडीगढ़ में शनिवार शाम बुलाई गई पंजाब कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले ही कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। राज्यपाल को इस्तीफा सौंपने के बाद कैप्टन विधायक दल की बैठक में नहीं पहुंचे थे, हालांकि उनके समर्थक सभी विधायकों ने इसमें शिरकत की थी। विधायक दल की बैठक में 79 विधायक और पार्टी हाईकमान द्वारा नियुक्त किए गए तीन आब्जर्वर भी उपस्थित रहे। वहीं, आम आदमी पार्टी से कांग्रेस में शामिल हुए विधायक सुखपाल सिंह खैरा, जगदेव सिंह कमालू, निर्मल सिंह खालसा और निर्मल सिंह मनशिआ भी कांग्रेस भवन में मौजूद थे लेकिन उन्हें विधायक दल की बैठक में प्रवेश नहीं दिया गया।  

[ad_2]

Supply hyperlink

Share on:

नमस्कार दोस्तों, मैं Pinku, HindiMeJabab(हिन्दी में जवाब) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं 10th Pass हूँ. मुझे नयी नयी चीजों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे.

Leave a Comment