Panch Parmeshwar Will Resolve Right this moment On The Successor Of Baghambari Gaddi Math – प्रयागराज : बाघंबरी गद्दी मठ के उत्तराधिकारी पर पंच परमेश्वर आज करेंगे फैसला, निरंजनी अखाड़े में मंथन

[ad_1]

अमर उजाला नेटवर्क, प्रयागराज 
Printed by: दुष्यंत शर्मा
Up to date Fri, 24 Sep 2021 01:36 AM IST

सार

सुसाइड नोट में उप महंत बलवीर गिरि को उत्तराधिकार सौंपने की बात कई है, लेकिन कई संतों की ओर से इस नोट को असत्य करार दिए जाने के बाद इस पर संशय खड़ा हो गया है।

Prayagraj : नरेंद्र गिरि (फाइल फोटो)।
– फोटो : prayagraj

ख़बर सुनें

बाघंबरी गद्दी मठ के उत्तराधिकारी को लेकर आज फैसला होगा। इसके लिए पंचायती निरंजनी अखाड़े की बैठक बुलाई गई है। पंच परमेश्वर की बैठक में मठ बाघंबरी गद्दी के अगले उत्तराधिकारी पर आम सहमति बनाने की कोशिश होगी। हालांकि अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत की सीबीआई जांच की संस्तुति होने और अभी षोडशी भंडारा न होने की वजह से कई संत इस बैठक को टालने के भी पक्ष में हैं। फिलहाल उत्तराधिकार के मसले पर विचार-विमर्श के लिए अखाड़े के सभी पंच प्रयागराज पहुंच गए हैं, ताकि इस अहम मसले पर निर्णय लिया जा सके।

फंदे से लटके मिले महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर को समाधि दिए जाने के बाद निरंजनी अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर महंत कैलाशानंद की मौजूदगी में पंच परमेश्वर की बैठक में बाघंबरी मठ के उत्तराधिकारी का निर्णय लिए जाने का एलान किया गया। कुछ पंचों के न पहुंच पाने की वजह से बृहस्पतिवार की देर रात तक यह बैठक नहीं हो सकी। अंतत: निरंजनी अखाड़े के सचिव महंत रवींद्र पुरी ने शुक्रवार को इस पर पंच परमेश्वर की बैठक में आम सहमति बनाने के लिए हामी भरी। 

बाघंबरी मठ का अगला उत्तराधिकारी कौन होगा, इसे लेकर मंथन शुरू हो गया है। सुसाइड नोट में उप महंत बलवीर गिरि को उत्तराधिकार सौंपने की बात कई है, लेकिन कई संतों की ओर से इस नोट को असत्य करार दिए जाने के बाद इस पर संशय खड़ा हो गया है। ऐसे में नए उत्तराधिकारी को लेकर अभी तस्वीर साफ नहीं है। कहा जा रहा है कि बाघंबरी मठ की जिम्मेदारी किसी बड़े और साफ-सुथरी छबि वाले संत को दी जा सकती है, ताकि मठ के साथ ही बड़े हनुमान मंदिर की परंपरा और गरिमा को बनाए रखा जा सके। 

अंदरखाने मानें तो आचार्य महामंडलेश्वर कैलाशानंद के हाथ में इस मठ की कमान सौंपे जाने की भी बात कही जा रही है, लेकिन अमर उजाला से बातचीत में उन्होंने इससे इनकार किया है। निरंजनी अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर कैलाशानंद ने कहा कि वह पहले से ही एक बड़ी जिम्मेदारी निभा रहे हैं। आचार्य महामंडलेश्वर हैं, ऐसे में मठ के उत्तराधिकारी का दायित्व वह नहीं संभाल सकते। उनका कहना है कि सर्व सम्मति से इस पर पर फैसला लिया जाएगा।

ये हैं निरंजनी अखाड़े के पंच परमेश्वर

  • सचिव निरंजनी अखाड़ा- महंत रवींद्र पुरी
  • सचिव निरंजनी अखाड़ा -महंत ओंकार गिरि
  • सचिव निरंजनी अखाड़- महंत रामरतन गिरि
  • महंत केशव पुरी
  • महंत राधे गिरि
  • महंत नरेश गिरि

विस्तार

बाघंबरी गद्दी मठ के उत्तराधिकारी को लेकर आज फैसला होगा। इसके लिए पंचायती निरंजनी अखाड़े की बैठक बुलाई गई है। पंच परमेश्वर की बैठक में मठ बाघंबरी गद्दी के अगले उत्तराधिकारी पर आम सहमति बनाने की कोशिश होगी। हालांकि अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत की सीबीआई जांच की संस्तुति होने और अभी षोडशी भंडारा न होने की वजह से कई संत इस बैठक को टालने के भी पक्ष में हैं। फिलहाल उत्तराधिकार के मसले पर विचार-विमर्श के लिए अखाड़े के सभी पंच प्रयागराज पहुंच गए हैं, ताकि इस अहम मसले पर निर्णय लिया जा सके।

फंदे से लटके मिले महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर को समाधि दिए जाने के बाद निरंजनी अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर महंत कैलाशानंद की मौजूदगी में पंच परमेश्वर की बैठक में बाघंबरी मठ के उत्तराधिकारी का निर्णय लिए जाने का एलान किया गया। कुछ पंचों के न पहुंच पाने की वजह से बृहस्पतिवार की देर रात तक यह बैठक नहीं हो सकी। अंतत: निरंजनी अखाड़े के सचिव महंत रवींद्र पुरी ने शुक्रवार को इस पर पंच परमेश्वर की बैठक में आम सहमति बनाने के लिए हामी भरी। 

बाघंबरी मठ का अगला उत्तराधिकारी कौन होगा, इसे लेकर मंथन शुरू हो गया है। सुसाइड नोट में उप महंत बलवीर गिरि को उत्तराधिकार सौंपने की बात कई है, लेकिन कई संतों की ओर से इस नोट को असत्य करार दिए जाने के बाद इस पर संशय खड़ा हो गया है। ऐसे में नए उत्तराधिकारी को लेकर अभी तस्वीर साफ नहीं है। कहा जा रहा है कि बाघंबरी मठ की जिम्मेदारी किसी बड़े और साफ-सुथरी छबि वाले संत को दी जा सकती है, ताकि मठ के साथ ही बड़े हनुमान मंदिर की परंपरा और गरिमा को बनाए रखा जा सके। 

अंदरखाने मानें तो आचार्य महामंडलेश्वर कैलाशानंद के हाथ में इस मठ की कमान सौंपे जाने की भी बात कही जा रही है, लेकिन अमर उजाला से बातचीत में उन्होंने इससे इनकार किया है। निरंजनी अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर कैलाशानंद ने कहा कि वह पहले से ही एक बड़ी जिम्मेदारी निभा रहे हैं। आचार्य महामंडलेश्वर हैं, ऐसे में मठ के उत्तराधिकारी का दायित्व वह नहीं संभाल सकते। उनका कहना है कि सर्व सम्मति से इस पर पर फैसला लिया जाएगा।

ये हैं निरंजनी अखाड़े के पंच परमेश्वर

  • सचिव निरंजनी अखाड़ा- महंत रवींद्र पुरी
  • सचिव निरंजनी अखाड़ा -महंत ओंकार गिरि
  • सचिव निरंजनी अखाड़- महंत रामरतन गिरि
  • महंत केशव पुरी
  • महंत राधे गिरि
  • महंत नरेश गिरि

[ad_2]

Supply hyperlink

Share on:

नमस्कार दोस्तों, मैं Pinku, HindiMeJabab(हिन्दी में जवाब) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं 10th Pass हूँ. मुझे नयी नयी चीजों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे.

Leave a Comment