Pak Miffed Over ‘wait And Watch’ Coverage On Recognising Afghanistan’s Taliban Govt – अफगानिस्तान: दुनिया का ठंडा रुख देख पाक घबराया, दिखाया अलकायदा और आईएस का डर

[ad_1]

एएनआई, इस्लामाबाद
Printed by: Amit Mandal
Up to date Thu, 16 Sep 2021 03:48 PM IST

सार

पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोईद युसूफ ने कहा है कि अफगानिस्तान को लेकर दुनिया की देखो और इंतजार करो की नीति सही नहीं है।

पाकिस्तान के एनएसए मोइद यूसुफ
– फोटो : twitter.com/yusufmoeed

ख़बर सुनें

दुनिया का ठंडा रुख देखकर पाकिस्तान को अफगानिस्तान के हालात को लेकर चिंता लगातार सताने लगी है। अब पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोईद यूसुफ ने कहा है कि अफगानिस्तान को लेकर दुनिया की इंतजार करो और देखो की नीति सही नहीं है। इससे ये देश गहरे आर्थिक संकट में फंस जाएगा। इसके साथ ही यूसुफ ने दुनिया को अलकायदा और आईएस का भी डर दिखाने की कोशिश की। 

डॉन में छपी खबर के मुताबिक, मोईद ने कहा कि अगर दुनिया बातचीत में यकीन रखी है तो उन्हें अफगानिस्तान की नई सरकार से बात करनी चाहिए। बिना बातचीत किए वैसा कुछ भी संभव नहीं हो पाएगा जैसा कि दुनिया तालिबान से चाहती है। 

पाक एनएसए ने कहा कि अफगानिस्तान को अलग-थलग करने से वह आतंकियों के लिए स्वर्ग बन जाएगा। अफगानिस्तान में पहले से आईएस मौजूद है, पाकिस्तानी तालिबान और अल कायदा भी है। सुरक्षा को लेकर खतरा क्यों मोल लेना चाहिए? 

मोईद का बयान ऐसे वक्त पर आया है जब अधिकतर विशेषज्ञों और कई देशों का मानना है कि अफगानिस्तान के हालात के पीछे पाकिस्तान का ही हाथ है। पाकिस्तान हर तरीके से तालिबान की मदद कर रहा है। 

बता दें कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने अफगानिस्तान के लिए मानवीय सहायता देना शुरू कर दिया है। लेकिन सियासी तौर पर तालिबान सरकार को अभी तक मान्यता देने का संकेत नहीं दिया है। अधिकतर इंतजार करो और देखो की नीति पर चल रहे हैं।

इन दिनों पाकिस्तान से ज्यादा तालिबान की बात करने वाले यूसुफ ने कहा कि अफगानिस्तान को अकेला छोड़ देने पर यह भी आतंकवादियों के लिए सुरक्षित पनाहगाह बन सकता है। पाकिस्तान ने इससे पहले इसी महीने खुफिया एजेंसी आईएसआई के चीफ लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद को काबुल भेजा था।

विस्तार

दुनिया का ठंडा रुख देखकर पाकिस्तान को अफगानिस्तान के हालात को लेकर चिंता लगातार सताने लगी है। अब पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोईद यूसुफ ने कहा है कि अफगानिस्तान को लेकर दुनिया की इंतजार करो और देखो की नीति सही नहीं है। इससे ये देश गहरे आर्थिक संकट में फंस जाएगा। इसके साथ ही यूसुफ ने दुनिया को अलकायदा और आईएस का भी डर दिखाने की कोशिश की। 

डॉन में छपी खबर के मुताबिक, मोईद ने कहा कि अगर दुनिया बातचीत में यकीन रखी है तो उन्हें अफगानिस्तान की नई सरकार से बात करनी चाहिए। बिना बातचीत किए वैसा कुछ भी संभव नहीं हो पाएगा जैसा कि दुनिया तालिबान से चाहती है। 

पाक एनएसए ने कहा कि अफगानिस्तान को अलग-थलग करने से वह आतंकियों के लिए स्वर्ग बन जाएगा। अफगानिस्तान में पहले से आईएस मौजूद है, पाकिस्तानी तालिबान और अल कायदा भी है। सुरक्षा को लेकर खतरा क्यों मोल लेना चाहिए? 

मोईद का बयान ऐसे वक्त पर आया है जब अधिकतर विशेषज्ञों और कई देशों का मानना है कि अफगानिस्तान के हालात के पीछे पाकिस्तान का ही हाथ है। पाकिस्तान हर तरीके से तालिबान की मदद कर रहा है। 

बता दें कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने अफगानिस्तान के लिए मानवीय सहायता देना शुरू कर दिया है। लेकिन सियासी तौर पर तालिबान सरकार को अभी तक मान्यता देने का संकेत नहीं दिया है। अधिकतर इंतजार करो और देखो की नीति पर चल रहे हैं।

इन दिनों पाकिस्तान से ज्यादा तालिबान की बात करने वाले यूसुफ ने कहा कि अफगानिस्तान को अकेला छोड़ देने पर यह भी आतंकवादियों के लिए सुरक्षित पनाहगाह बन सकता है। पाकिस्तान ने इससे पहले इसी महीने खुफिया एजेंसी आईएसआई के चीफ लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद को काबुल भेजा था।



[ad_2]

Supply hyperlink

Share on:

नमस्कार दोस्तों, मैं Pinku, HindiMeJabab(हिन्दी में जवाब) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं 10th Pass हूँ. मुझे नयी नयी चीजों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे.

Leave a Comment