Mahant Narendra Giri: Dispute With Disciple Anand Giri Was A Matter Of Dialogue, Even After Reconciliation, Guru Did Not Come On Purnima – महंत नरेंद्र गिरि : अपने गुरु की पीएम तक शिकायत लेकर पहुंच गए थे शिष्य आनंद गिरि, गुरु पूर्णिमा पर दर्शन करने भी नहीं आए

[ad_1]

सार

Mahant Narendra Giri discovered lifeless: अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी की संदिग्ध हालात में मौत के बाद उनसे जुड़े विवाद भी सामने आ गए हैं। सबसे ज्यादा चर्चा उनके सबसे करीबी शिष्य रहे आनंद गिरी के साथ विवाद की हो रही है। शिष्य ने अपने ही गुरु के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। 

prayagraj information : महंत आनंद गिरी और योग गुरु आनंद गिरी।
– फोटो : prayagraj

ख़बर सुनें

अखाड़ा परिषद अध्यक्ष नरेंद्र गिरि की मौत को लोग उनके पूर्व शिष्य नरेंद्र गिरी से हुए विवाद से भी जोड़कर देख रहे हैं। विवाद बढ़ने के बाद आनंद गिरि ने बाद में वीडियो जारी कर नरेंद्र गिरि का चरण पकड़कर माफी मांग ली थी और संत परंपरा के अनुसार महंत नरेंद्र गिरी ने उन्हें माफ करने का वीडियो जारी किया था, लेकिन मामला यहीं खत्म नहीं हुआ था।

सार्वजनिक तौर पर वीडियो जारी करके भले ही विवाद को खत्म करने का संदेश दिया गया, लेकिन अंदर ही अंदर विवाद कायम रहने की खबर आ रही थी। यही कारण है कि गुरु पूर्णिमा पर अपने गुरु नरेंद्र गिरी का दर्शन और पूजन करने के लिए आनंद गिरि नहीं आए थे। इसके बाद से ही कयास लगाए जा रहे थे कि विवाद अभी थमा नहीं है।

शिष्य ने गुरु की शिकायत राष्ट्रपति और पीएम से की थी
निरंजनी अखाड़े से निष्कासित महंत आनंद गिरि और अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि के बीच मठ-मंदिरों की जमीनों को लेकर विवाद हो गया था। इसके बाद महंत आनंद गिरि के शिष्य स्वामी आनंद गिरि ने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री को पत्र भेजकर अखाड़े के विवाद की शिकायत भी की थी। 

उन्होंने आरोप लगाया कि शहर के कीडगंज स्थित गोपाल मंदिर को भी आधा बेच दिया गया है। मठ और मंदिर की बेची गई जमीनों के करोड़ों रुपये के दुरुपयोग की उच्चस्तरीय जांच कराई जानी चाहिए। साथ ही उन्होंने संगम स्थित बड़े हनुमान मंदिर के लाखों रुपये के चढ़ावे और प्रसाद से होने वाली बेहिसाब आमदनी की भी जांच कराने की मांग की थी। शिकायत में उन्होंने लिखा था कि केंद्र और राज्य सरकार के साथ-साथ निरंजनी अखाड़े को मठ बाघंबरी गद्दी के अलावा अखाड़े की बेची गई जमीनों के करोड़ों रुपये किस मद में खर्च किए गए, इसकी जांच करानी चाहिए।

चढ़ावे के पैसे पर भी उठाए थे सवाल
स्वामी आनंद गिरि ने सवाल उठाया था कि हनुमान मंदिर में जो चढ़ावा आता है, वह कहां, कैसे और किस मद में खर्च हो रहा है? सेना की जमीन पर बने हनुमान मंदिर के लड्डुओं की टेस्टिंग तक नहीं कराई जाती। स्वामी आनंद गिरि ने प्रधानमंत्री से गुहार लगाई थी कि महंत नरेंद्र गिरि ने गांव छतौना प्रतापपुर में अपने भाइयों के जो मकान बनवाए हैं, उसकी भी निष्पक्ष जांच कराई जाए।

सीबीआई से शिकायत कर सीएम को भेजी गुरु से जुड़ीं तस्वीरें
स्वामी आनंद गिरि ने निरंजनी अखाड़ा और बाघंबरी गद्दी की अरबों में बेची गई संपत्ति की शिकायत सीबीआई से भी की थी। साथ ही अपने गुरु की कुछ तस्वीरें भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भेजीं हैं, जिसमें वह अपने मठ के ही एक विद्यार्थी की शादी में नोटों की गड्डियां लुटाते नजर आ रहे हैं। इसके अलावा उनके शिष्यों के आलीशान भवनों की भी तस्वीरें भी भेजी हैं।

स्वामी आनंद गिरि ने कहा था कि महंत नरेंद्र गिरि के करीबी सेवादारों की भी जांच कराई जानी चाहिए, जो जब मठ में आए थे तो उनके पास कुछ भी नहीं था। अब उनके पास करोड़ों के मकान और लग्जरी गाड़ियां और जमीनें कहां से आ गईं?

विस्तार

अखाड़ा परिषद अध्यक्ष नरेंद्र गिरि की मौत को लोग उनके पूर्व शिष्य नरेंद्र गिरी से हुए विवाद से भी जोड़कर देख रहे हैं। विवाद बढ़ने के बाद आनंद गिरि ने बाद में वीडियो जारी कर नरेंद्र गिरि का चरण पकड़कर माफी मांग ली थी और संत परंपरा के अनुसार महंत नरेंद्र गिरी ने उन्हें माफ करने का वीडियो जारी किया था, लेकिन मामला यहीं खत्म नहीं हुआ था।

सार्वजनिक तौर पर वीडियो जारी करके भले ही विवाद को खत्म करने का संदेश दिया गया, लेकिन अंदर ही अंदर विवाद कायम रहने की खबर आ रही थी। यही कारण है कि गुरु पूर्णिमा पर अपने गुरु नरेंद्र गिरी का दर्शन और पूजन करने के लिए आनंद गिरि नहीं आए थे। इसके बाद से ही कयास लगाए जा रहे थे कि विवाद अभी थमा नहीं है।

शिष्य ने गुरु की शिकायत राष्ट्रपति और पीएम से की थी

निरंजनी अखाड़े से निष्कासित महंत आनंद गिरि और अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि के बीच मठ-मंदिरों की जमीनों को लेकर विवाद हो गया था। इसके बाद महंत आनंद गिरि के शिष्य स्वामी आनंद गिरि ने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री को पत्र भेजकर अखाड़े के विवाद की शिकायत भी की थी। 

उन्होंने आरोप लगाया कि शहर के कीडगंज स्थित गोपाल मंदिर को भी आधा बेच दिया गया है। मठ और मंदिर की बेची गई जमीनों के करोड़ों रुपये के दुरुपयोग की उच्चस्तरीय जांच कराई जानी चाहिए। साथ ही उन्होंने संगम स्थित बड़े हनुमान मंदिर के लाखों रुपये के चढ़ावे और प्रसाद से होने वाली बेहिसाब आमदनी की भी जांच कराने की मांग की थी। शिकायत में उन्होंने लिखा था कि केंद्र और राज्य सरकार के साथ-साथ निरंजनी अखाड़े को मठ बाघंबरी गद्दी के अलावा अखाड़े की बेची गई जमीनों के करोड़ों रुपये किस मद में खर्च किए गए, इसकी जांच करानी चाहिए।

[ad_2]

Supply hyperlink

Share on:

नमस्कार दोस्तों, मैं Pinku, HindiMeJabab(हिन्दी में जवाब) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं 10th Pass हूँ. मुझे नयी नयी चीजों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे.

Leave a Comment