Himachal Climate Replace: Heavy Rainfall Alert For Two Days, Freeway In Shimla Stalled For 5 Days – मौसम: हिमाचल में दो दिन भारी बारिश का येलो अलर्ट, कुल्लू में चट्टानें गिरने से घर को नुकसान

[ad_1]

सार

हिमाचल प्रदेश में 24 सितंबर तक मौसम खराब बना रहने का पूर्वानुमान है। मौसम विज्ञान केंद्र ने दो दिन भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। वहीं, मानसून सीजन के दौरान अभी तक सामान्य से 14 फीसदी कम बारिश रिकॉर्ड हुई है। 

हिमाचल में दो दिन भारी बारिश का अलर्ट।
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

हिमाचल प्रदेश में दो दिन भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने 20 व 21 सितंबर को 10 जिलों ऊना, बिलासपुर, हमीरपुर, चंबा, कांगड़ा, कुल्लू, मंडी, शिमला, सोलन और सिरमौर के कई भागों के लिए भारी बारिश का येलो अलर्ट जारी किया है। 24 सितंबर तक प्रदेश में बारिश का दौर जारी रहने का पूर्वानुमान है। वहीं, प्रदेश में मानसून सीजन के दौरान अभी तक सामान्य से 14 फीसदी कम बारिश दर्ज हुई है। कुल्लू, मंडी और शिमला जिलों को छोड़कर शेष नौ जिलों में सामान्य से कम बादल बरसे हैं। 13 जून से 17 सितंबर तक कुल्लू में सबसे अधिक सामान्य से 39 फीसदी, मंडी में 7 और शिमला में एक फीसदी अधिक बारिश हुई है। लाहौल-स्पीति जिले में सबसे कम 68, बिलासपुर जिले में 14, चंबा में 43, हमीरपुर में 6, कांगड़ा में 9, किन्नौर में 6, सिरमौर में 24, सोलन में 19 और ऊना जिला में सामान्य से 15 फीसदी कम बारिश दर्ज हुई। प्रदेश में इस अवधि के दौरान कुल 621 मिलीमीटर बारिश हुई, जबकि 724 मिलीमीटर बारिश को सामान्य माना गया है।

उधर, कुल्लू के शारनी-पीणी सड़क पर रोपासेरी में शनिवार सुबह अचानक पहाड़ी से भूस्खलन के चलते चट्टानें गिरने से एक घर को आंशिक रूप से नुकसान पहुंचा है। चट्टान की चपेट में आने से परिवार के लोग भी बाल-बाल बच गए। हादसा सुबह करीब साढ़े नौ बजे हुआ। जब पहाड़ी की तरफ से अचानक चट्टानें खिसकर सड़क की ओर लुढ़क गई। एक चट्टान मकान की छत के साथ गिरी। गनीमत यह रही कि इस चट्टान की चपेट में परिवार का कोई सदस्य नहीं आया। सड़क पर आई चट्टानों के चलते शारनी-पीणी सड़क पर वाहनों की आवाजाही करीब आठ घंटे तक ठप हो गई थी। पीणी पंचायत के प्रधान हिम सिंह ने कहा कि चट्टान खिसकने से मकान को आंशिक रूप से नुकसान हुआ है। उपायुक्त आशुतोष गर्ग ने कहा कि बरसात के मौसम को देखते हुए लोग एहतियात बरतें। रात्रि के समय सफर करने से बचें। 

एनएच-5 76 घंटे बाद बहाल
प्रदेश के किन्नौर जिले के चौरा पुल के पास अवरुद्ध राष्ट्रीय उच्चमार्ग-5 चार दिन(करीब 76 घंटे) बाद वाहनों की आवाजाही के लिए बहाल कर दिया गया है। नेशनल हाईवे प्राधिकरण, सीमा सड़क संगठन, जेएसडब्ल्यू और लोक निर्माण विभाग ने 52 घंटों की कड़ी मशक्कत के बाद बीती रात करीब 12 बजे हाईवे को बहाल किया। यातायात ठप होने से किन्नौर, काजा और स्पीति के हजारों लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। वहीं जिले के सेब बागवानों के साथ-साथ किन्नौर, काजा व स्पीति के प्राकृतिक सौंदर्य को निहारने के लिए पहुंचे पर्यटकों को दिक्कतें झेलनी पड़ीं। हाईवे बंद होने से सेब सहित मटर की फसल सड़ने की कगार पर पहुंच चुकी थी। अब किसानों-बागवानों व स्थानीय लोगों ने राहत की सांस ली है। भूस्खलन से राष्ट्रीय उच्चमार्ग पर चौरा और निगुलसरी की तरफ दोनों ओर वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लगी रहीं। नेशनल हाईवे प्राधिकरण के एक्सईएन केएल सुमन ने कहा कि करीब 52 घंटों की कड़ी मशक्कत के बाद हाईवे बहाल कर दिया गया है। 
 

उधर, हिमाचल के आठ जिलों को जोड़ने वाला राष्ट्रीय उच्च मार्ग-205 के घंडल के पास धंसने से पांच दिनों से ठप है।  राष्ट्रीय उच्च मार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने सड़क से मलबा निकलाने का कार्य शुरू कर दिया है। शिमला से निचले हिमाचल को जाने के लिए जिला प्रशासन ने वैकल्पिक रूट चार्ट जारी किया है। इसमें शिमला आने के लिए बंगोरा, कालीहट्टी, नालहट्टी, घणाहट्टी और निचले हिमाचल के लिए घणाहट्टी, कंडा, पनेश, कोहबाग, रंगोल रूट तय किया है। सेदन-शकराह-पक्की बावड़ी संपर्क मार्ग को भी छोटे वाहनों के लिए तय है।

डीसी आदित्य नेगी ने इस बाबत अधिसूचना जारी की है। एनएचएआई ने 13 सितंबर की रात को घंडल के पास धंसी सड़क का नए सिरे से डिजाइन बनाने का कार्य शुरू कर दिया है। सड़क का करीब 80 मीटर हिस्सा धंसा है। भूगर्भ वैज्ञानिकों की तीन स्तरीय कमेटी दो दिन से चट्टानों की जांच (टेस्टिंग) कार्य में जुटी है। चट्टानों और मिट्टी के सैंपल जांच के लिए दिल्ली भेजे हैं। सड़क की पहाड़ी से पानी का रिवास लगातार हो रहा है। ऐसे में रिपोर्ट आने के बाद ही एनएच मरम्मत कार्य शुरू करेगा। 

विस्तार

हिमाचल प्रदेश में दो दिन भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने 20 व 21 सितंबर को 10 जिलों ऊना, बिलासपुर, हमीरपुर, चंबा, कांगड़ा, कुल्लू, मंडी, शिमला, सोलन और सिरमौर के कई भागों के लिए भारी बारिश का येलो अलर्ट जारी किया है। 24 सितंबर तक प्रदेश में बारिश का दौर जारी रहने का पूर्वानुमान है। वहीं, प्रदेश में मानसून सीजन के दौरान अभी तक सामान्य से 14 फीसदी कम बारिश दर्ज हुई है। कुल्लू, मंडी और शिमला जिलों को छोड़कर शेष नौ जिलों में सामान्य से कम बादल बरसे हैं। 13 जून से 17 सितंबर तक कुल्लू में सबसे अधिक सामान्य से 39 फीसदी, मंडी में 7 और शिमला में एक फीसदी अधिक बारिश हुई है। लाहौल-स्पीति जिले में सबसे कम 68, बिलासपुर जिले में 14, चंबा में 43, हमीरपुर में 6, कांगड़ा में 9, किन्नौर में 6, सिरमौर में 24, सोलन में 19 और ऊना जिला में सामान्य से 15 फीसदी कम बारिश दर्ज हुई। प्रदेश में इस अवधि के दौरान कुल 621 मिलीमीटर बारिश हुई, जबकि 724 मिलीमीटर बारिश को सामान्य माना गया है।

उधर, कुल्लू के शारनी-पीणी सड़क पर रोपासेरी में शनिवार सुबह अचानक पहाड़ी से भूस्खलन के चलते चट्टानें गिरने से एक घर को आंशिक रूप से नुकसान पहुंचा है। चट्टान की चपेट में आने से परिवार के लोग भी बाल-बाल बच गए। हादसा सुबह करीब साढ़े नौ बजे हुआ। जब पहाड़ी की तरफ से अचानक चट्टानें खिसकर सड़क की ओर लुढ़क गई। एक चट्टान मकान की छत के साथ गिरी। गनीमत यह रही कि इस चट्टान की चपेट में परिवार का कोई सदस्य नहीं आया। सड़क पर आई चट्टानों के चलते शारनी-पीणी सड़क पर वाहनों की आवाजाही करीब आठ घंटे तक ठप हो गई थी। पीणी पंचायत के प्रधान हिम सिंह ने कहा कि चट्टान खिसकने से मकान को आंशिक रूप से नुकसान हुआ है। उपायुक्त आशुतोष गर्ग ने कहा कि बरसात के मौसम को देखते हुए लोग एहतियात बरतें। रात्रि के समय सफर करने से बचें। 

एनएच-5 76 घंटे बाद बहाल

प्रदेश के किन्नौर जिले के चौरा पुल के पास अवरुद्ध राष्ट्रीय उच्चमार्ग-5 चार दिन(करीब 76 घंटे) बाद वाहनों की आवाजाही के लिए बहाल कर दिया गया है। नेशनल हाईवे प्राधिकरण, सीमा सड़क संगठन, जेएसडब्ल्यू और लोक निर्माण विभाग ने 52 घंटों की कड़ी मशक्कत के बाद बीती रात करीब 12 बजे हाईवे को बहाल किया। यातायात ठप होने से किन्नौर, काजा और स्पीति के हजारों लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। वहीं जिले के सेब बागवानों के साथ-साथ किन्नौर, काजा व स्पीति के प्राकृतिक सौंदर्य को निहारने के लिए पहुंचे पर्यटकों को दिक्कतें झेलनी पड़ीं। हाईवे बंद होने से सेब सहित मटर की फसल सड़ने की कगार पर पहुंच चुकी थी। अब किसानों-बागवानों व स्थानीय लोगों ने राहत की सांस ली है। भूस्खलन से राष्ट्रीय उच्चमार्ग पर चौरा और निगुलसरी की तरफ दोनों ओर वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लगी रहीं। नेशनल हाईवे प्राधिकरण के एक्सईएन केएल सुमन ने कहा कि करीब 52 घंटों की कड़ी मशक्कत के बाद हाईवे बहाल कर दिया गया है। 

 


आगे पढ़ें

आठ जिलों को जोड़ने वाला हाईवे पांचवें दिन भी ठप

[ad_2]

Supply hyperlink

Share on:

नमस्कार दोस्तों, मैं Pinku, HindiMeJabab(हिन्दी में जवाब) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं 10th Pass हूँ. मुझे नयी नयी चीजों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे.

Leave a Comment