Free Import Interval Of Toor And Urad Dal Prolonged Until 31 December – राहत: 31 दिसंबर तक बढ़ी अरहर और उड़द दाल की मुक्त आयात अवधि

[ad_1]

सार

देश में दालों की बढ़ती मांग को देखते हुए केंद्र सरकार ने तुअर (अरहर) और उड़द दाल को आयात प्रतिबंधों से मुक्त रखने की अवधि 31 दिसंबर तक बढ़ा दी है।

तुअर और उड़द दाल की मुक्त आयात अवधि बढ़ी (सांकेतिक तस्वीर)
– फोटो : सोशल मीडिया

ख़बर सुनें

केंद्र सरकार ने मंगलवार को तुअर (अरहर) और उड़द दाल को आयात प्रतिबंधों से मुक्त रखने की अवधि 31 दिसंबर तक बढ़ा दी। वाणिज्य मंत्रालय की अधिसूचना के मुताबिक, 31 दिसंबर, 2021 या उससे पहले के लदान बिल वाली तुअर और उड़द दाल की आयात खेप को सीमा शुल्क विभाग 31 जनवरी, 2022 के बाद अनुमति नहीं देगा। तुअर और उड़द दाल के मुफ्त आयात की अवधि 31 दिसंबर, 2021 तक बढ़ा दी गई है।

बता दें कि भारत दुनिया में दालों का सबसे बड़ा उत्पादक और उपभोक्ता देश है। सरकार ने इस साल मई में तुअर और उड़द दाल को प्रतिबंधित से हटाकर मुक्त आयात की श्रेणी में डाल दिया था। प्रतिबंधित श्रेणी वाले उत्पादों को विदेश से मंगाने के लिए पहले सरकार से अनुमति या लाइसेंस लेने की आवश्यकता होती है। लेकिन मुक्त श्रेणी में डालने के बाद इन उत्पादों का कभी भी बिना अनुमति लिए आयात किया जा सकता है।

मंत्रालय ने अधिसूचना नोटिस में यह भी कहा कि 2021-22 की अवधि में प्रतिबंधित दाल को आयात मंजूरी लेने के लिए आवेदकों की तरफ से जमा कराए गए आवेदन शुल्क की वापसी के लिए भी प्रक्रिया निर्धारित कर दी गई है।

विस्तार

केंद्र सरकार ने मंगलवार को तुअर (अरहर) और उड़द दाल को आयात प्रतिबंधों से मुक्त रखने की अवधि 31 दिसंबर तक बढ़ा दी। वाणिज्य मंत्रालय की अधिसूचना के मुताबिक, 31 दिसंबर, 2021 या उससे पहले के लदान बिल वाली तुअर और उड़द दाल की आयात खेप को सीमा शुल्क विभाग 31 जनवरी, 2022 के बाद अनुमति नहीं देगा। तुअर और उड़द दाल के मुफ्त आयात की अवधि 31 दिसंबर, 2021 तक बढ़ा दी गई है।

बता दें कि भारत दुनिया में दालों का सबसे बड़ा उत्पादक और उपभोक्ता देश है। सरकार ने इस साल मई में तुअर और उड़द दाल को प्रतिबंधित से हटाकर मुक्त आयात की श्रेणी में डाल दिया था। प्रतिबंधित श्रेणी वाले उत्पादों को विदेश से मंगाने के लिए पहले सरकार से अनुमति या लाइसेंस लेने की आवश्यकता होती है। लेकिन मुक्त श्रेणी में डालने के बाद इन उत्पादों का कभी भी बिना अनुमति लिए आयात किया जा सकता है।

मंत्रालय ने अधिसूचना नोटिस में यह भी कहा कि 2021-22 की अवधि में प्रतिबंधित दाल को आयात मंजूरी लेने के लिए आवेदकों की तरफ से जमा कराए गए आवेदन शुल्क की वापसी के लिए भी प्रक्रिया निर्धारित कर दी गई है।

[ad_2]

Supply hyperlink

Share on:

नमस्कार दोस्तों, मैं Pinku, HindiMeJabab(हिन्दी में जवाब) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं 10th Pass हूँ. मुझे नयी नयी चीजों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे.

Leave a Comment