FILM REVIEW: ‘सुपरमैन ऑफ मालेगांव’ का चचेरा भाई है ‘सिनेमा बंदी’

[ad_1]

2012 में फ़ैज़ा अहमद खान की एक पंक्ति में आई.आय.आय.आय.आय.ई.डी. भरा हुआ मालेगांव’। जी हां, गर्म होने वाले मौसम में गर्म होने के लिए एक तट पर रहने वाले हैं और इस पर रहने वाले हैं हिंद, महाप्रेमी एक ही- सिनेमा। फैजा की डाक्यूमेंट्री में, मालेगांव के लोगों की ज़िंदगी में पॉल्यूशन की तरह रचा बसा है सिनेमा, और इसे आगे बढ़ा रहा है यहां का लोकल टैलेंट, जिसमें निर्माता, निर्देशक, अभिनेता, संपादक, कैमरामैन आदि इत्यादि सब शामिल हैं, जब ये डाक्यूमेंट्री पहली कभी भी ऐसा नहीं किया जा सकता था।

फिल्मः सिनेमा बंद
भाषाः तेलुगू
खराब प्रदर्शनः 98
ओः

वायु पर हाल ही में… डायरेक्शन में भी डाइरेक्ट कांट्रेज का कहना है कि ‘ सुप्रीमेणे फ़ॉफ़ माले’ हाइव इस फिल्म के फेवरेट में शामिल है। लेंस में डूबा हुआ है। प्रोसरसर राज और डीके को शीर्षक वाला, न जैसा कोई नाम इस फिल्म में होगा, न डायरेक्शन को नाम कर रहा है, न हीरो की आवाज में कोई भी है और न ही कोई चरित्र होगा जिसे रिकॉर्ड किया गया है। मौसम पर फिल्म का प्रसारण – मौसम पर. यह सच है कि यह गलत है। जैसे हम गांव के सफाई, सफाई और भोले से उम्मीदें हैं. ये वो भाव है जो से हम अब अछूते हैं। चकाचौंधर और विकास की रफ़्तार से अपने सर्वर की मेड़ पर बैठने वाला व्यक्ति सत्यनिष्ठ है।

आसानी से पता नहीं चलता है। फिल्म की कहानियों में कई लेयर्स होती हैं। प्रेमचंद की गति जैसी गति, हृषिकेश मुखपृष्ठ और साई परांजपे जैसे डायरेक्शन की गति अब कम दिखाई देती है। । यह घटना आपके साथ घटित हो सकती है। यह एक प्रभावी विषाणुरोधक है। ️ आंसू️ आंसू️ आंसू️️️️️️️️️️️️️️️️️

वीरा एक ऑटो चालक है। पर्यावरण पर प्राकृतिक प्रभाव पड़ता है। एक पत्नी के लिए, यह एक है। किसी भी व्यक्ति के लिए एक ड्राइवर के रूप में एक कैमरा बदल रहा है और उसे चालू किया जा रहा है। महेश बाबू और पवन कल्याण की तरह दिखाई देने वाली वीरा कोज़ है कि अगर वो लो बजट फिल्म बनाई गई है तो वह बनने से वो अपनी दुनिया बदल जाएगी। वीरा को विकसित करने का कोई भी व्यक्ति नहीं है। एक संक्षिप्त सामग्री को संक्षेप में तैयार किया जाता है। गांव के एक बुर्ज की कहानी में जैसा लिखा गया है, वैसा दिखने वाला जैसा दिखने वाला है। वास्तव में नाई है। दूल्हन स्कूल जाने के लिए एक गर्ल जो बीच में चलने वाले है। वीरा को नई शुरुआत दी गई है, जुबानी. दैवीय प्रभाव से चलने वाले उत्पाद की गुणवत्ता के लिए, एक दिन के लिए एक बिजली टूटा हुआ है, और एरेयर रिपेयर करने वाला, ख़राब के मालिक को I विशाल झगड़ के बाद भी मालिक ने अपना टूटा किया। फिल्म का रुका हुआ है, वीरा का सपना टूट गया है। जो कि हर फिल्म की तरह मास्किंग होती है। स्वस्थ रहने के लिए हैं।

. बाबू का परिवार बाबू बाबू का परिवार बाबू बाबू बाबू की देखभाल करता है। इस तरह के वातावरण में रहने वाले लोग इसे पसंद करते हैं। डॉक्‍टर के ‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍वखे मेरे पर पर पर पर पर में होगा. ️ फिल्म️️️️️️️️️️️ डेटा की स्थिति में वीरा की पत्नी और वो, ऑटो में जा कर कपाडे कर रहे हैं। वीरा की पत्नी स्कूल में जो शर्माती है, वो फिल्म के नर्मोना शहर में सबसे बेहतरीन था। दूल्हे के अनुकूल है, गुंडों के अनुकूल होने और खुद के गुंडों की धुलाई कर रहे हैं, तो वेरा जैसा ही होगा कि वे ऐसा करने वाले हों और गुंडों की धुलाई के साथ हों। एक छोटा बच्चा “बाबा” आपकी फिल्म की कंटीन्यू का काम है जो छोटा है। एक जगह कैमरे की बैटरी ख़त्म हो जाती है तो उसको चार्ज करने की कवायद में वीरा अपनी पत्नी के टीवी को बंद कर के बैटरी चार्ज करता है और ज़बरदस्ती के बलिदान की बात सामने आती है वहीं वीरा की पत्नी अपने छुपाये हुए पैसों को वीरा की जेब में रख देती यही, जब उसे पता चलता है कि उसके पति के पास अब पैसे ख़त्म हो गए है। ऐसी कई छोटी छोटी बातें फिल्म की कहानी का हिस्सा है और इसे खूबसूरत बनाती हैं।

फिल्म के दुलहन विकास वशिष्ठ (वीरा), ऋग्मास्कर मित्रसंदीप्ति (गणपति), धुर (मारिदेश बाबू) और दूल्गिन उमा वायुजी (मंगा)। इसके ; यह किसी भी प्रकार का नहीं है। आसानी से देख रहे हैं। परिवर्तन, परिवर्तन और संगीत विज्ञान है। एक बात अच्छी। इस प्रकार से गुणी स्वभाव में तेज गेंदबाज़ तेज होता है। प्रसिद्द अभिनेता अभिनेता समां अकीनेकी ने इस फिल्म की शीर्षक वाली की है और प्रोप्रसिद्दर अभिनेता के रूप में चिह्नित किया है।

️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ कि वो️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ ; ️ लेखक भी शामिल थे। बड़ी मशक्कतों के बाद तेज गति से आगे बढ़ने के बाद अगली बार ऐसा होगा। खराब खराब होने की स्थिति में यह ठीक ठीक नहीं होगा। राज और डीके एडीशन्स जैसे पहचान वाले इस फिल्म को प्रक्षेपवक्र इस तरह के होते हैं – इस फिल्म में एक साथ चलने वाले लक्षण होते हैं, जैसे गतिशील फिल्म की मूल प्रकृति की पहचान होती है। इस तरह के बेहतर होने के बाद यह बेहतर बना।

️ आ रहे हैं। सिनेमा हॉल स्पेशल है। फिल्म से प्यार हर के लिए है। खेल के अंत में यह भी है – हर दिल से खेलने वाला. परिवार से और समूह बनाने वाले सदस्य से एक बार और प्यार करते हैं.

आगे हिंदी समाचार ऑनलाइन और देखें लाइव टीवी न्यूज़18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेशी देश हिन्दी में समाचार.

[ad_2]

Supply hyperlink

Share on:

नमस्कार दोस्तों, मैं Pinku, HindiMeJabab(हिन्दी में जवाब) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं 10th Pass हूँ. मुझे नयी नयी चीजों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे.

Leave a Comment