“DM ka full form kya hai” और DM कैसे बने? पूरी जानकारी हिंदी मैं

Share This Post If You Found This Helpfull

नमस्कार दोस्तों, आज के ये लेख DM ka full form kya hai के बारेमें है और साथ ही आपको DM से जुडी अन्य जानकारी आपको इसी पोस्ट मैं देखने को मिलेगा .

DM ka full form kya hai
DM ka full form kya hai

आज के समय मैं आप सभी कहीं ना कहीं DM के बारेमैं जरुर सुना होगा.आज के समय मैं प्रत्यक यूबा चाहेते की बो किसी बड़े पद पर कार्य करे तो DM की बात करे तो ये एक बहोत बड़ा और पॉवर फुल पद है . देश मैं जानता के सुरक्षा के लिए सरकार बिभिन अधिकारियों की नियुक्ति करती है जो आपनी देश या जिले मैं होने बाले कार्य को पूरा करते है . इसी तारा DM एक अधिकारी होता है जो एक जिले के प्रमुख होता है जो जिले के सुरक्षा के साथ- साथ जिले की सबा भी करता है .

अगर आप DM बनने की चाहत रकते हो तो मेरे ये पोस्ट आपके बहोत काम आ सकती है क्यूं की मैं आज आपको DM ka full form kya hai, DM क्या होता है ,डीएम की कार्य,डी एम बनने की तयारी कैसे करे.डी एम बनने के लिए योग्यता और DM से जुडी अन्य जानकारी आपको देने बाला हूँ. DM के बारेमें सभी जानकारी प्राप्त करने के लिए इसी पोस्ट को सुरु से लेकर आखिर तक पढ़िए .

DM क्या होता है ?

DM को जिला अधिकारी कहा जाता है और इसे District Collector और जिला न्यायाधीश भी कहा जाता है . प्रत्येक जिले में एक न्यायालय होता है .न्यायालय में जो न्यायाधीश होते है उन्हें ही जिला न्यायाधीश कहा जाता है .एक जिला अधिकारी (DM) आपनी जिला का सबसे बड़ा अधिकारी होता है और ये जिला का सबसे बड़ा पद होता है. जो जिले के सुरक्षा के साथ-साथ जिला के सबा भी करता है .

आप सभी तो जान गए की DM क्या होता है अब चलिए जानते है DM ka full form kya hai .

DM ka full form kya hai

DM का full form ” District Magistrate” है और हिंदी मैं ‘जिला अधिकारी’ होता है और इन्हें District Collector भी कहा जाता है .
D – District
M – Magistrate

District Magistrate (DM) कैसे बने?

ऊपर आपको DM क्या है और DM ka full form kya hai बारेमें बताया गया है .अगर आप District Magistrate (DM) बनना चाहेते हो तो इसके लिए क्या योग्यता होना चाहिए ,आयु सीमा क्या होना चाहिए और सभी जानकारी आपको निचे step by step बताया गया है.

Read Also: IPS Officer Kaise Bane ! IPS Officer बनने के तयारी कैसे करे 2020 .

Read Also: “Income Tax Officer Kaise Bane” इनकम टेक्स अधिकारी बनने की तयारी कैसे करे ?

District Magistrate (DM) बनने के लिए योग्यता (Qualification)

District Magistrate बनने के लिए उम्मीदवार के पास किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएट की डिग्री ( Bachelor’s Degree from any recognised University) होना अनिवार्य है.

District Magistrate (DM) बनने के लिए आयु सीमा (Age limit)

District Magistrate बनने के लिए General बर्ग के उम्मीदवार के कम से कम आयु 21 वर्ष और अधिकतम आयु 30 वर्ष होना जरुरी है .OBC बर्ग के उम्मीदवार कम से कम आयु 21 वर्ष और अधिकतम आयु 33 वर्ष और SC/ST बर्ग के लिए न्यूनतम आयु 21 वर्ष और अधिकतम आयु 35 वर्ष होना जरुरी है .

DM परीक्षा पैटर्न

District Magistrate बनने के लिए आपको UPSC परीक्षा (राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित होने वाली राज्य सिविल सेवा परीक्षा ) देना पड़ेगा और इसमें पास होने के बाद IAS के लिए चयन किया जाता है .तथा पदोन्नति होने पर IAS अधिकारी को जिला न्यायाधीश बनाया जाता है.

UPSC परीक्षा (राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित होने वाली राज्य सिविल सेवा परीक्षा) मुख्य तोर पर 3 चरणों मैं किया जाता है जिसके बारेमें आपको निचे बताया गया है.

प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam)

DM पद के लिए आबेदन कने बाले उम्मीदवार के ये प्रथम परीक्षा होता है .इसमें उम्मीदवार को कुछ प्रश्न का हल करना पड़ता है जिसके लिए समय सीमा का निर्धारित किया जाता है .

मुख्य परीक्षा (Main Exam)

प्रारंभिक परीक्षा मैं उतीर्ण होने के बाद आप मुख्य परीक्षा के दे सकते हो .ये दूसरी चरण होता है और अंतिम परीक्षा होता है .इसमें उतीर्ण होने के बाद साक्षात्कार के लिए जा सकते हो .

साक्षात्कार ( Interview)

प्रारंभिक परीक्षा और मुख्य परीक्षा मैं उतीर्ण होने के बाद साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है जिसमे आपको कुछ सबाल पुचा जाता है और उसके आधार पर चयन किया जाता है .

District Magistrate (DM) के कार्य

  • DM अधिकारी जिले में उसके तहत अन्य मजिस्ट्रेटों की गतिविधियों की निगरानी करता है.
  • जिला मजिस्ट्रेट अपने अधीन मैं आने वाले जिले के पुलिस विभाग को नियंत्रित करता है 
  • आपराधिक मामलों की सुनवाई और निर्णय ले सकती है। इस प्रकार, आपराधिक और नागरिक न्याय का प्रशासन भी उसके अधिकार क्षेत्र में आ सकता है.
  • वार्षिक आपराधिक रिपोर्ट सरकार को सौंपता है.
  • जिले के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में यह जिला मजिस्ट्रेट का कर्तव्य है कि वह पोस्टिंग ट्रांसफर को लागू करने और जिले के भीतर विभिन्न राजपत्रित अधिकारियों की पत्तियों को विभिन्न सरकारी आदेशों को लागू करने के लिए, जिले का बजट सरकार को सौंपने के लिए .

Conclusion:

दोस्तों.DM ka full form kya hai, DM कैसे बने और डीएम से जुडी सभी जानकारी मैंने आपको बतादिया .मैं उमीद करता हूँ इसी पोस्ट को पढने के बाद आपको इसमें से कुछ सिखने को मिला होगा जो आगे जा कर आपकी काम आ सकता है .
मेरे पोस्ट DM ka full form kya hai मैं आपको लगता है की कहीं पर सुधार होना चाहिए तो आप मुझे कमेंट करके बता सकते हो.अगर ये पोस्ट आपको अच्छा लगता है तो आप इसे आपनी दोस्तों और Social media sites जेसे Facebook,Twitter और Whatsapp पर share करे जिससें ये जानकारी अन्य लोगों तक भी पुहँच सके .


Share This Post If You Found This Helpfull

Hey, I am Linku Ranjan a part-time blogger and founder of hindimejabab.com

1 thought on ““DM ka full form kya hai” और DM कैसे बने? पूरी जानकारी हिंदी मैं”

  1. I’m really impressed together with your writing skills as well as with the format on your blog. Is this a paid topic or did you customize it your self? Either way keep up the nice quality writing, it is uncommon to peer a nice blog like this one nowadays.

    Reply

Leave a Comment