Bhu Nursing College students Sit On Protest For Demanding To Conduct Examination Work Stalled In Hospital – बीएचयू: परीक्षा कराने की मांग को लेकर धरने पर बैठे नर्सिंग छात्र, अस्पताल में ठप रखा कामकाज

[ad_1]

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, वाराणसी
Revealed by: उत्पल कांत
Up to date Mon, 27 Sep 2021 07:45 PM IST

सार

आईएमएस बीएचयू के नर्सिंग कॉलेज के बाहर सोमवार को नर्सिंग के छात्र-छात्राओं ने धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। इस दौरान नर्सिंग छात्रों ने जमकर नारेबाजी की।  

धरने पर बैठे नर्सिंग छात्र
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

आईएमएस बीएचयू में बीएससी नर्सिंग की परीक्षा न होने के विरोध में नर्सिंग के विद्यार्थी सोमवार को सड़क पर उतर आए। बीएचयू अस्पताल में कामकाज ठप रखकर नर्सिंग महाविद्यालय के बाहर छात्रों ने धरना दिया। इससे अस्पताल में वार्ड, लैब सहित अन्य जगहों पर कामकाज प्रभावित रहा।

परीक्षा कराए जाने, हॉस्टल न दिए जाने आदि मांगों के न होने पर आईएमएस निदेशक समेत अन्य अधिकारियों पर अनदेखी का आरोप लगाया। उन्होंने चेतावनी दी कि जब तक मांगों के पूरा होने का आदेश जारी नहीं हो जाता, तब तक विरोध जारी रहेगा।

बीएचयू में बीएससी नर्सिंग के 200 से अधिक विद्यार्थी हैं। छात्रों ने बताया कि 2018 से इसी मांग को लेकर धरना, प्रदर्शन करना पड़ता है। हर बार केवल आश्वासन मिलता है। मई में आईएमएस निदेशक को पत्र भेजकर मांगों से अवगत कराया था, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। 

ये हैं छात्रों की मांगें
-परीक्षा नवंबर तक कराकर दिसंबर में परिणाम जारी हो। 
-चतुर्थ वर्ष की पढ़ाई पूरी करने के बाद नर्सिंग ऑफिसर पद पर भर्ती हो। 
-छात्रों को आने वाली भर्तियों में आरक्षण के नियम लागू हों। 
-एमएससी नर्सिंग की पढ़ाई भी जल्द से जल्द शुरू हो।

विस्तार

आईएमएस बीएचयू में बीएससी नर्सिंग की परीक्षा न होने के विरोध में नर्सिंग के विद्यार्थी सोमवार को सड़क पर उतर आए। बीएचयू अस्पताल में कामकाज ठप रखकर नर्सिंग महाविद्यालय के बाहर छात्रों ने धरना दिया। इससे अस्पताल में वार्ड, लैब सहित अन्य जगहों पर कामकाज प्रभावित रहा।

परीक्षा कराए जाने, हॉस्टल न दिए जाने आदि मांगों के न होने पर आईएमएस निदेशक समेत अन्य अधिकारियों पर अनदेखी का आरोप लगाया। उन्होंने चेतावनी दी कि जब तक मांगों के पूरा होने का आदेश जारी नहीं हो जाता, तब तक विरोध जारी रहेगा।

बीएचयू में बीएससी नर्सिंग के 200 से अधिक विद्यार्थी हैं। छात्रों ने बताया कि 2018 से इसी मांग को लेकर धरना, प्रदर्शन करना पड़ता है। हर बार केवल आश्वासन मिलता है। मई में आईएमएस निदेशक को पत्र भेजकर मांगों से अवगत कराया था, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। 


आगे पढ़ें

क्या हैं छात्रों की मांग

[ad_2]

Supply hyperlink

Share on:

नमस्कार दोस्तों, मैं Pinku, HindiMeJabab(हिन्दी में जवाब) का Technical Author & Co-Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं 10th Pass हूँ. मुझे नयी नयी चीजों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे.

Leave a Comment