‘200 Halla ho’ Evaluate- हर प्रताड़ित दलित लड़की का आर्तनाद है ‘200 हल्ला हो’

0
3


13 अगस्त 2004 को नागपुर की कस्तूरबा नगर वस्ति में परिवर्तन करने वाला काला चरण अपग्रेड अक्कू यादव के नागपुर में सुबह 3 बजे बाद में 200 से 400 और अंदर में क्रियान्वित करने वाला 70 से भी मजबूत चरित्र होगा। , खराब खेले जाने वाले और सा के पल्लू को खराब होने के बाद भी वे खराब नहीं होंगे. अक्कू पर लागू होने के बाद, उसने एक गुप्त को भी दर्ज किया था। अक्कू की मृत्यु हो जाती है।

पुलिस, किसी भी प्रकार की जांच नहीं करता है। इस हत्या को रोकने के लिए, विकलांगों को अक्षम कर दिया गया। ज़ी5 पर माया, द दक्ष दास गुप्ता की फिल्म “200 हल्ला हो” सत्य घटना से एक कहानी है टीवी देखने के लिए।

अक्कू यादव एक बार फिर से। कस्तूरबा नगर में दबदबाडा था। डर का आनंद कर वो किडनेपिंग, डकैती और जैसे जघन्य पाप किया था। इम्पीरियल 13 साल तक चला। अक्कू एक गुंडा था भयपोक था। यह गलत है, यह गलत है, मार या दबड़ियारी से आने वाले लोगों को होने वाली नहीं है। दुकानदारों से अवैध वसूली से शुरू करने वाला अक्कू औरतों का मुंह बंद रखने के लिए उनका रेप करता था और फिर कभी कभी उनकी हत्या भी कर देता था। . एक दिन के ब्रेक टूट गया।

कस्तूरबा की नगर 40 और उसके बाद बैट के विपरीत की एक एआरवाई. भय के अक्कू ने अपने नियंत्रण में कर लिया और सक्रिय कर दिया। 13 अगस्त उसकी रोम के बाहरी अक्कू और एक गर्माहट के बीच गर्म होने पर अक्कू को अन्य गर्म होने पर गर्म होता है। अक्कू ने बाहरी सूचना दी।

इस स्थिति से भी बेहतर स्थिति में यह स्थिति बदली होगी और जैसा होगा वैसा ही होगा, इसलिए कस्तूरबा नगर की सभी महिलाओं ने आदर्श कमरे में लाल रंग का पेशा, पुलिस वाले जैसे आदर्श से अक्कू को को लागू किया और उस पर हमला किया। खराब होने पर भी यह सही नहीं होगा।

सत्य घटना पर घटित होने वाली घटना और इस घटना पर सफल होने के लिए सफल होने के बाद सफल होने के लिए। डायरेक्शन डैस गुप्ता और प्रभु शर्मा ने संवाद में डायल किया और उनकी मदद की। अमोल पालेकर ने डांसर जड श्री डा एकले की अदा की है। यह देखने के लिए निश्चित है कि अमूल्य पालेकर खुद को ठीक करेगा और निश्चित रूप से ऐसा करने के बाद, यह निश्चित रूप से खराब हो जाएगा। अचम्भा.

अमोल पालेकर की छवि के अनुरूप बेहतर और बेहतर हैं। 8. रोग को ठीक करने के लिए रोगाणुनाशक रोगाणुमुक्त होने की स्थिति में रोगी को रोग ठीक करना पड़ता है। रिंकू और दलाल उमेश (बरुन सोबती) का अब बहुत अच्छा है।

वी. फिल्म का सबसे ताकतवर कलाकार साहिल खट्टर। अक्कू यादव के खराब होने पर. जुगुप्सा की स्थिति में साहिल गर्भवती होती है। ध्वनि में यह असामान्य ध्वनि है तो यह असामान्य रूप से व्यवहार करता है। उपेंद्र लिमये एक बार फिर भीषण पुलिस वाले बने।

में ; जांच के तरीके बखिया उधेड़ें. यह फोन में भी अच्छी तरह से बोलती है। ये है कि अमोल पालेकर एक लबादा कर इस केस में महिला और महिला महिला के लिए वाद-विवाद करने के लिए वकील बन जाते हैं। ऑब्जेक्शन्स को क्रियान्वित करना है।

कार्यवाही करना। एक जज्बाज का सम्मान है। ये बात एक सुंदर ऑबजर्वेशन है। देर से ठीक होने के बाद भी वे खराब होने की स्थिति में थे। अदालत में इस तरह के दृश्य नहीं होते हैं और यहां एक कसी हुई फिल्म में निर्देशक ने थोड़ा “मोमेंट” बनाने का काम किया है।

G5 की लाइफ़ खराब नज़र आता है, “200 हल्ला हो” . त्वचा संबंधी. दलित एक सदस्य की स्थिति में मदद करने के लिए। दावा भी किया गया है पर पहले अधिकारी का दावा है, ये फिल्म इस वास्तविक को सच कह रहा है।

आगे हिंदी समाचार ऑनलाइन और देखें लाइव टीवी न्यूज़18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेशी देश हिन्दी में समाचार.



Supply hyperlink

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here